Bhai Dooj | Bhai Dooj की शुरआत | Bhai Dooj कब मनाया जाता है

नमस्कार दोस्तों ! Bhai Dooj जो की दिवाली के पांचवे दिन मनाया जाता है। एक पवित्र पर्व है जहाँ पर भाई-बहन जैसे प्यारे रिश्ते को सेलिब्रेट किया जाता है। ये त्यौहार भाई बहन के प्रेम और सम्मान को महत्व देता है। इस दिन बहन अपने भाई को तिलक लगाकर आशीर्वाद देती है और भाई बहन के बीच प्रेम और सम्मान का बंधन मजबूती से बंधते हैं। आज के इस ब्लॉग में हम Bhai Dooj और इस जुड़ी आस्था और कहनिओं के बारे में जानेंगे तो चलिए शुरू करते हैं।

Bhai Dooj की शुरआत

Bhai Dooj की शुरुआत एक प्राचीन हिन्दू कथा से जुड़ी है। यह कथा महाभारत के समय की है। Bhai Dooj की कथा के अनुसार श्री कृष्णा और उनकी बहन सुभद्रा के बीच एक अत्यंत प्यारा और सम्मानजनक रिश्ता था। इस कथा के आधार पर माना जाता है कि Bhai Dooj का पर्व तब से शुरू हुआ जब सुभद्रा ने अपने भाई श्री कृष्णा को खाना खिलाया और उनपर तिलक लगाया। इस कथा के प्रसिद्द होने के बावजूद Bhai Dooj का एकदम सही इतिहासिक शुरुआत बिंदु स्पष्ट रूप से संकेत नहीं देता।

यह प्राचीन परंपरा और कथाओं पर आधारित है। और इसका उद्देश्य भाई बहन के प्यार और सम्मान को प्रतीकात्मक रूप से दुरुस्त करना है। लोगों के अनुसार Bhai Dooj की शुरुआत बहुत ही पुराने समय में हुआ था लेकिन इसका प्राचीन एतिहासिक उल्लेख प्रतिष्ठित ग्रंथों में नहीं मिलता। इस समय यह त्यौहार भाइयों और बहनों के बीच प्रेम और सम्मान को दुरुस्त करने का एक महत्वपूर्ण अवसर है और यह भाई-बहन के रिश्तों को और मजबूती और मिठास प्रदान करता है।

Bhai Dooj कब मनाया जाता है

Bhai Dooj या यामा द्वितीय के रूप में भी जाना जाता है। हिन्दू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीय तिथि को मनाया जाता है। यह त्यौहार दिवाली के दूसरे दिन या दिवाली के पंचम दिन को आता है। जो हर साल अलग-अलग समय पर होता है क्योंकि हिन्दू पंचांग के अनुसार दिवाली की तिथि हर साल बदलती है। दिवाली के वक़्त छोटे भाई Bhai Dooj के अवसर पर अपनी बड़ी बहनों के पास जाते हैं और उनके साथ समय बिताते हैं।

Bhai Dooj का दिन हर साल बदलता है क्योंकि यह तिथि हिन्दू पंचांग के अनुसार तय होती है। जो चँद्रमा के गति के आधार पर नक्षत्रस और तिथियों के अनुसार तय की जाती है। इसलिए Bhai Dooj की तिथि हर साल अलग हो सकती है। लेकिन यह त्यौहार दिवाली के कुछ दिन बाद ही आता है।

Bhai Dooj का महत्व

Bhai Dooj एक ऐसा अवसर है जहाँ पर भाई बहन का प्रेम और सम्मान प्रकट किया जाता है। यह त्यौहार भाइयों और बहनो के बीच विशेष एकता को दरुस्त करती है। इस दिन बहने अपने भाइयों के लिए प्रार्थना करती हैं की उनकी ज़िन्दगी खुशियों से भर जाए और उनका भविष्य उज्जवल हो। Bhai Dooj की परंपरा हमारी संस्कृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है और यह भाइयों और बहनों के बीच एक अटूट रिश्ता को दुरुस्त रखती है।

Bhai Dooj की पारंपरिक तैयारियां

Bhai Dooj का पर्व बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस दिन बहने अपने भाइयों के लिए सुन्दर तिलक तैयार करती हैं। जो कुमकुम, चावल, और रोली से बनता है। फिर बहने अपने भाइयों के चेहरे पर तिलक लगाती हैं और उनको मिठाई और उपहार देती हैं। इसके बाद भाई बहन एक दुसरे को आशीर्वाद देते हैं और वचन देते हैं की वो हमेशा एक दुसरे के साथ रहेंगे और एक दुसरे का सम्मान करेंगे।

Bhai Dooj का सामाजिक सन्देश

Bhai Dooj एक सामाजिक सन्देश भी देती है। यह त्यौहार बहन को उसके भाई के प्रति अपने प्रेम और सम्मान को व्यक्त करने का अवसर देता है। इससे एक खुशहाल और समृद्ध परिवार की नीव रखी जाती है। इस दिन लोग अपने भाइयों और बहनों के साथ समय बिताते हैं। खुशियां और प्यार को बाटने का मौका मिलता है।

Conclusion

Bhai Dooj एक ऐसा त्यौहार है जो भाई बहन के बीच प्रेम और सम्मान को मानाने का सुन्दर अवसर प्रस्तुत करता है। इस दिन प्रेम और रिश्तों का महत्व समझा जाता है और एक दुसरे के साथ समय बिताने का अवसर मिलता है। Bhai Dooj के रूप में हमारे संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो प्रेम और सम्मान की अहमियत को दुरुस्त करती है। इस त्यौहार को मनाकर हम अपने भाइयों और बहनों के साथ एक मजबूत रिश्ता बनाते हैं और एक दुसरे को आशिर्वाद देते हैं, खुशियां बांटते हैं, और प्यार व्यक्त करते हैं।

Bhai Dooj के अवसर पर कुछ खूबसूरत और भावनात्मक Quotes हैं जो भाई बहन रिश्ते की मिठास और खूबसूरती को व्यक्त करते हैं।

  • भाई बहन का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता है जो ज़िन्दगी भर का साथी होता है। * Happy Bhai Dooj *
  • Bhai Dooj के इस प्यारे अवसर पर मैं दुआ करती हूँ की हमारा रिश्ता हमेशा प्यारा और मज़बूत रहे। * शुभ भाई दूज *
  • Bhai Dooj का त्यौहार आता है रिश्ते की मिठास को मानाने का मौका देता है मेरे प्यारे भाई तू हमेशा मेरे लिए स्पेशल है। * Happy Bhai दूज *
  • Bhai Dooj के इस ख़ास दिन पर मैं तुम्हे सम्मान और प्यार भेजती हूँ तुम मेरे सबसे अच्छे भाई हो। * शुभ भाई दूज *
  • Bhai Dooj का त्यौहार है खुशियों का, रिश्ते का, और सम्मान का। इस दिन हम भाई बहन एक दुसरे के साथ प्रेम और सम्मान को मनाते हैं।
  • Bhai Dooj के इस सुन्दर अवसर पर मैं अपने भाई का सम्मान करती हूँ। तुम मेरे लिए हमेशा एक फरिश्ता रहे हो। * Happy Bhai Dooj *
  • Bhai Dooj के इस त्यौहार पर मैं अपने भाई को आशिर्वाद और प्यार भेजती हूँ। तुम्हारी ज़िन्दगी का सफर हमेशा खुशियां से भरा रहे। * शुभ भाई दूज *
  • Bhai Dooj के इस मौके पर मैं अपने भाई को धन्यवाद देती हूँ क्यूंकि तुम मेरे जीवन का एक अनमोल हिस्सा हो। * शुभ भाई दूज *

Leave a Comment